चुड़ैल साधना

Tantra Mantra

चुड़ैल साधना एवं सिद्धि | Chudail sadhna aur siddhi

निम्न लिखित चुड़ैल साधना एवं सिद्धि मंत्र ( Chudail sadhna aur siddhi ) बहुत प्रभावशाली है। Tantramantra.in एक विचित्र वेबसाइट है जो की आपके लिए प्राचीन तंत्र मंत्र सिद्धियाँ टोन टोटके पुरे विधि विधान के साथ लाती है. TantraMantra.in कहता है सभी तांत्रिक मित्रों को इन कार्यविधियों को गुरु के मध्य नज़र ही करना चाहिये। तथा इन इलमो को केवल अच्छे कार्य में ही इस्तेमाल करना चाहिए, अन्यथा आपको इसके बुरे परिणाम का सामना खुद ही करना होगा ।

कुदरती टोटके जो मनुष्य पढ़कर खुद करेगा उसी का कार्य पूर्ण होगा और जो दूसरे को पढ़कर बतायेगा जिसको बतायेगा उसका कार्य नहीं होगा, जो पढ़ेगा और बिना किसी व्यक्ति को बताये करेगा उसी का कार्य सम्पूर्ण होगा।

निम्नलिखित तंत्र मंत्र प्राचीन तंत्र मंत्र साहित्यो से लिए गए हैं! जैसे इंद्रजाल, लाल किताब, शाबर मंत्र संग्रह इत्यादि|

चुड़ैल का दोष मंत्र

विधि – इस मंत्र का जाप करते हुए झाड़ा करने से रोगी चुड़ैल सम्बन्धी समस्त दोषों से निदान पाता है और फिर से सामान्य जीवन जीने लगता है।

मंत्र – 
ॐ  नमो आदेश गुरु का।
कवलाछरी, बावन वीर ।
कलू बैठनो जल के तीर।
तीन पान का बीड़ा खबाऊं।
जेठे बैठा जतलाऊं।
मालीमर तोर गत बहाऊं।
वाचा चूके तो कंकाली की दुहाई।
मेरी भक्ति गुरु की शक्ति।
‘फुरो मंत्र ईश्वरो बाचा।

चुड़ैल साधना एवं सिद्धि का झाड़ा मंत्र

विधि – किसी एकान्त में रोगिणी को निर्वस्त्र करके नमक तथा पानी के साथ उपरोक्त मंत्र से झाड़ा करें

मंत्र –
ॐ पूर्व-पश्चिम, उत्तर-दक्षिण। चारि का स्वर्ग पाताल।
आंगन द्वार घर मंझार खाट बिछौना गड़ई सोवनार। 
सागलन औ जेववार। विरासो धावै फुलैल।
लबंग सोपारिजे महुँ तेल  अबटन उबटन औ अवनहान परिहरण।
लहंगा सारी जान। डोरा चोलिया चादर झीन।
मोट रुई ओढ़न झीन। शंकर गौरा क्षेत्रपाला। पहिले झारो बारम्बार ।
काजल तिलक लिलाट। आँखि  नाक कान कपार
महुँ चोटी कंठ अवकंस कांध बांह हाथ गोड़ अंगूरी नख धुकधुकी अस्थल 

नाभी पेटी के निचे जोनि चरणी कत भेटि पेठी करि दाव 
जांघ पेडुरी धूठी पावतर ऊसर अंगुरा चाम  रक्त मांस डांड गुदी धातु 
जो नहीं धडु अन्तरी कोठरी। करेज पित्त ही पित्त। जिय प्राण सब वित्त।
बात अंकमने जागु बड़े। नरसिंह की आनु कबहुं न लाग फांस।
पित्तर रांग कांच। लोहरूप सोन साच पाट पट वशन।
रोग जोग कारण। दीशन डीठि मूठि टोना।  थापक नवनाथ चौरासी सिद्ध के सराय।
डाइन योगिन चुरइन भूत व्याधि। परि अरि जेजुत मनै गोरख  नैन।
साथ प्रगटरे विलाउ । काली औ भैरव की हांक।फुरो मंत्र ईश्वरो बाचा।

अगर आपको चुड़ैल साधना आई हो तो कृपया निचे कमेंट करें अथवा शेयर करें

यह भी पढ़े:-

  1. मुठ रोकने का मंत्र
  2. मसान को हटाने का मंत्र
  3. मसान भेजने का मंत्र
  4. वशीकरण मंत्र
  5. बगलामुखी मंत्र एवं जाप विधि

Leave a Comment