हनुमान मंत्र

Tantra Mantra

2 हनुमान मंत्र | हनुमान रक्षा मंत्र | हनुमान बीज मंत्र

Hanuman ji, Tantra Mantra

निम्न लिखित हनुमान मंत्र | हनुमान रक्षा मंत्र | हनुमान बीज मंत्र बहुत प्रभावशाली है। Tantramantra.in एक विचित्र वेबसाइट है जो की आपके लिए प्राचीन तंत्र मंत्र सिद्धियाँ टोन टोटके पुरे विधि विधान के साथ लाती है. TantraMantra.in कहता है सभी तांत्रिक मित्रों को इन कार्यविधियों को गुरु के मध्य नज़र ही करना चाहिये। तथा इन इलमो को केवल अच्छे कार्य में ही इस्तेमाल करना चाहिए, अन्यथा आपको इसके बुरे परिणाम का सामना खुद ही करना होगा ।

निम्नलिखित तंत्र मंत्र प्राचीन तंत्र मंत्र साहित्यो से लिए गए हैं! जैसे इंद्रजाल, लाल किताब, शाबर मंत्र संग्रह इत्यादि|

हनुमान बीज मंत्र

वैदिक विज्ञान में अनेक प्रकार के मंत्र हैं और बीज मंत्र उनमें से एक है। प्रत्येक देवता का एक विशेष बीज मंत्र होता है, अधिकतर कुछ बीज मंत्र एक शब्द तक सीमित होते है । उदाहरण के लिए, “ओम” एक शब्द का बीज मंत्र है। यदि आप विश्वास के साथ ध्यान केंद्रित करने में सक्षम हैं, तो बीज मंत्र एक बहुत शक्तिशाली स्रोत हैं जो आपके जीवन की अलग – अलग समस्याओं का समाधान कर सकते हैं। हिंदू परंपरा के अनुसार, हनुमान जी का बीज मंत्र का जाप आप पर हनुमान की कृपा प्राप्त करने का एक शक्तिशाली तरीका है।

मंत्र

हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट्‌ ।

  • हनुमान बीज मंत्र का जाप करने का सर्वोत्तम समय –  सूर्योदय के दौरान
  • इस मंत्र का जाप करने की संख्या – 108 
  • हनुमान बीज मंत्र का जाप कौन कर सकता है? – कोई भी 
  • इस मंत्र का जाप मुख करके करें – पूर्व

हनुमान बीज मंत्र का जाप करने से लाभ

  • हनुमान बीज मंत्र का जाप भगवान को प्रसन्न करने का सबसे अच्छा और शक्तिशाली तरीका है।
  • हनुमान बीज मंत्र का जाप आपकी एकाग्रता शक्ति को बढ़ाता है और आपको सकारात्मक ऊर्जा से भर देता है।
  • यह शनि साढ़े साती के हानिकारक प्रभावों से लड़ने में भी मदद करता है।
  • बीज मंत्र शारीरिक शक्ति और सहनशक्ति प्राप्त करने में मदद करता है।
  • माना जाता है कि हनुमान बीज मंत्र भूतों और आत्माओं को दूर करता है और बुखार और मिर्गी जैसी बीमारियों को दूर करता है।
  • बीज मंत्र का जाप करके भगवान हनुमान को प्रसन्न करने से व्यक्ति को साहस और आत्मविश्वास का आशीर्वाद मिलता है।

हनुमान मंत्र: बुरे शक्तिया और शनि के बुरे दोष से कैसे मदद करते हैं?

आप अलौकिक शक्तियों पर विश्वास करें या न करें, लेकिन ऐसी मान्यता है कि नियमित रूप से हनुमान मंत्र का जाप करने वाले व्यक्ति को भूत, प्रेत या किसी भी प्रकार की बुरी आत्माएं कभी परेशान नहीं करती हैं। हनुमान मंत्र का जाप करने वाले व्यक्ति को असीमित ऊर्जा और शक्ति से भर देता है। साथ ही नियमित रूप से हनुमान मंत्र का पाठ करने से आपको शनि या साढ़े साती के बुरे प्रभाव से मुक्ति मिलती है   

हनुमान रक्षा मंत्र 

विधि –  यह मंत्र अभी तक तांत्रिकों में पूर्ण सम्मान के साथ प्रयोग किया जा रहा है। इसे तीन बार पढ़ने से पूर्ण सुरक्षा होती है।

मंत्र –  
ॐ  नमः बज़ का कोठा।
जिसमें पिंड हमारा पेठा।
ईश्वर कुज्जी। ब्रह्म का ताला।
मेरे आठों याम का यती हनुमन्त रखवाला।

अन्य जानकारी

हनुमान जी का जन्म

वायु देव की विमल कृपा से अंजना गर्भवती हुई और एक गुफा में श्री हनुमान जी को जन्म दिया। कल्प भेद से कुछ लोक कार्तिक कृष्ण पक्ष चतुर्दशी को भी हनुमान जी का अवतरण मानतें हैं । परन्तु बाल्मीकि रामायण, अध्यात्म रामायण आदि ग्रंथों में लिखा है कि भगवान शिव के ग्यारहवें अवतार 58 हजार 112 वर्ष पहले त्रेतायुग के अन्तिम चरण में चैत्र पूर्णिमा को मंगलवार के दिन चित्रा नक्षत्र व मेष लग्न के योग में सुबह 6.03 बजे (विकिपीडिया के अनुसार)  पृथ्वी पर हनुमान जी का जन्म हुआ!

अगर आपको हनुमान बीज मंत्र एवं साधना पसंद आई हो तो कृपया निचे कमेंट करें अथवा शेयर करें

यह भी पढ़े:-

  1. मुठ रोकने का मंत्र
  2. महाशक्तिशाली वशीकरण
  3. मसान भेजने का मंत्र
  4. काली माँ महाकाली भद्रकाली मंत्र
  5. बगलामुखी मंत्र एवं जाप विधि

Latest articles

Categories


Pages


Recent Posts

3 thoughts on “2 हनुमान मंत्र | हनुमान रक्षा मंत्र | हनुमान बीज मंत्र”

Leave a Comment