10 शुक्र ग्रह को मजबूत करने के उपाय लाल किताब

Tantra Mantra

10 शुक्र ग्रह को मजबूत करने के उपाय लाल किताब

निम्न लिखित शुक्र ग्रह को मजबूत करने के उपाय लाल किताब बहुत प्रभावशाली है। Tantramantra.in एक विचित्र वेबसाइट है जो की आपके लिए प्राचीन तंत्र मंत्र सिद्धियाँ टोन टोटके पुरे विधि विधान के साथ लाती है. TantraMantra.in कहता है सभी तांत्रिक मित्रों को इन कार्यविधियों को गुरु के मध्य नज़र ही करना चाहिये। तथा इन इलमो को केवल अच्छे कार्य में ही इस्तेमाल करना चाहिए, अन्यथा आपको इसके बुरे परिणाम का सामना खुद ही करना होगा ।

कुदरती टोटके जो मनुष्य पढ़कर खुद करेगा उसी का कार्य पूर्ण होगा और जो दूसरे को पढ़कर बतायेगा जिसको बतायेगा उसका कार्य नहीं होगा, जो पढ़ेगा और बिना किसी व्यक्ति को बताये करेगा उसी का कार्य सम्पूर्ण होगा।

निम्नलिखित तंत्र मंत्र प्राचीन तंत्र मंत्र साहित्यो से लिए गए हैं! जैसे इंद्रजाल, लाल किताब, शाबर मंत्र संग्रह इत्यादि|

शुक्र ग्रह को मजबूत करने के उपाय लाल किताब

उपाय – 1   

शुक्र ग्रह को मजबूत करने के उपाय लाल किताब द्वारा इस प्रकार है। यदि जन्मकुंडली में शुक्र अनिष्टकारी स्थिति में हो तो अपनः थाली में से भोजन निकालकर गायों को भोजन कराना चाहिये। इससे ग्रह के अनिष्टकारी प्रभाव को दूर करने में सहायता मिलेगी। गाय का दाम तथा उसका चारा भी अनिष्ट ग्रह का निवारण करता है।

उपाय – 2

शुक्र ग्रह को मजबूत करने के उपाय लाल किताब द्वारा दूसरा उपाए इस प्रकार है। शुक्र से संबंधित दान में देने योग्य वस्तुएं हैं–घी, दही, कपूर और सफेद मोती। स्त्रियों की सहायता व पालन भी लाभप्रद है। शुक्र का देवता ‘लक्ष्मी. जी हैं। यदि कुंडली में शुक्र अनिष्ट प्रभाव कर रहा हो, तो लक्ष्मी जी की पूजा करनी चाहिए।

शुक्र को अनुकूल करने के लिये टोटके

शुक्र ग्रह यदि प्रतिकूल या अनिष्ट फल प्रदर्शित कर रहा हो तो इस अनिष्ट के निवारण के लिये अथवा शुक्र को अनुकूल करने के लिये निम्न टोटकों का प्रयोग करना चाहिए. जिससे शुक्र ग्रह को मजबूत करने के उपाय लाल किताब द्वारा हम आपके लिए लेके आये है

उपाय – 1

स्वर्ण निर्मित मादलिए (ताबीज) में सरपंखा की जड़ रखकर, सफेद सूती धागे द्वारा उसे गले में धारण करना चहिए। शुक्रवार का दिन इसके लिये उपयुक्त है।

उपाय – 2

प्लेटिनम धातु की अंगूठी बनवाकर के शुक्रवार के दिन , प्रातः:काल के समय गाय का दूध और शहद के मिश्रित योग में स्नान कराकर अनामिका उंगली में पहन ले।

टोटकों से सम्बन्धित सरल उपाय

जिससे शुक्र ग्रह को मजबूत करने के उपाय लाल किताब टोटकों से सम्बन्धित सरल उपाय | नीच शुक्र वाला जातक काली कपिला गाय की सेवा किया करे। दही, लाल ज्वार धर्म-स्थान में चढ़ाए। सफेद रेशमी वस्त्र का दान करे। लाल ज्वार पत्नी के वजन के बराबर या उसका दसवां हिस्सा मन्दिर में दे।

  • शुक्र को उच्च करने के लिए बादाम का सेवन करे।
  • उबले आलू को पीले कर, कपिला गाय को खिलाए।
  • शनि नीच वाला व्यक्ति तेल, शराब, उड़द मांस और अण्डे का प्रयोग न करे।
  • तेल में पकौड़े बनाकर शनि के दिन काले कौओं को खिलाए।

शुक्र का शुभ/अशुभ प्रभाव

कोई ग्रह कुंडलियों के नियमों के अनुसार केन्द्र और त्रिकोण का स्वामी होने के कारण राजयोग कारक ही क्‍यों न हो, अगर वो जन्मक्कुंडली में बहुत अधिक पाप प्रभाव में है तो राजयोगकारक समृद्धि का फल न देखकर उल्टा दिवाला तक निकाल सकता है।

चन्द्र लगन से सप्तमेश होकर लग्न से सातवे स्थान में यदि शुक्र बहुत से ग्रहों के द्वारा पीड़ित हो अथवा लग्न से सप्तमेश होकर चन्द्र लग्न से सातवे में बैठकर अधिक पीड़ित हो तो स्त्री की जन्मकुंडली में ऐसा योग होने पर स्त्री को योनि या कैंसर प्रदान करता है।

शुक्र पुरुषों की जन्मकुंडली में स्त्री का कारक ग्रह है। यदि शुक्र सप्तम ( सातवाँ ) सप्तमेश ( सातवें घर का मालिक ) के साथ बहुत पाप प्रभाव में हो और शुभ प्रभाव का इन अंगों पर अभाव हो तो विवाह नहीं होता। यदि शुभ प्रंभाव तो हो, किन्तु साथ ही इन अंगों पर सूर्य, शनि तथा राहु का (जो पृथक्ताजनक ग्रह हैं) प्रभाव भी हो तो विवाह के बाद दाम्पत्य जीवन में कलह आदि द्वारा परस्पर पृथक्ता, तलाक आदि हो जाता है।

शुक्र (तुला लग्न वालों का) लगन का स्वामी और आठवें घर का स्वामी दोनों होता है। इसलिए यहाँ शुक्र पर पाप बाहुल्य हो और शुभ ग्रहों के प्रभाव का अभाव हो तो जातक की आयु थोड़ी समझनी चाहिए। उपाय के रूप में शुक्र को बलवान्‌ किया जाना चाहिए।

विशेष – शुक्र ग्रेह के अशुभ प्रभाव तथा उससे उत्पन्न होने वाले रोगों से मुक्ति पाने के लिए हीरा धारण करना उत्तम है। किन्तु सामान्य आय वाले व्यक्ति के लिए इतना कीमती रत्न धारण करना प्राय: असंभव ही है। अत: शुक्र के अशुभ प्रभाव को दूर करने के लिए नियमित रूप से लक्ष्मी जी की पूजा करनी चाहिए।

कुछ खास जानकारियां

शुक्र ग्रह को मजबूत करने के उपाय लाल किताब से जुड़े उपायों के साथ कुछ जरुरी जानकारी | चौबीस साल के बाद यानि पच्चीस साल की शुरूआत होने पर मनुष्य के शरीर के शुक्र की शक्ति का जन्म होने लगता है और सत्ताइस साल की उम्र तक शुक्र पूरी तरह से मनुष्य के शरीर में अपनी जगह बना लेता है। कहने का तात्पर्य यह है कि मनुष्य के अन्दर प्यार-मुहब्बत की उमंग एवं भावना का नाम शुक्र है। शुक्र का अर्थ बलवान होता है, और बली आदमी हजारों में भी साफ दिखाई देता है। शुक्र-प्रधान व्यक्ति शारीरिक, मानसिक एवं आर्थिक रूप से पुष्ट होता है। यदि शुक्र मन्दा न हो तो उसे धन की कोई कमी नहीं होती।

यदि जातक अपनी स्त्री को सताएगा, स्त्री समाज का अपमान करेगा, गौ आदि को पीड़ित करेगा तो उच्च शुक्र उसे अपना प्रभाव नहीं देगा। चंचल स्वभाव की शरारती स्त्री अपना कष्ट चन्द्र (माता) पर डाल देती है। शुक्र और चन्द्र आमने-सामने हों तो जातक की माता को आँखों का कष्ट होता है।

अगर 10 शुक्र ग्रह को मजबूत करने के उपाय लाल किताब पसंद आई हो तो कृपया निचे कमेंट करें अथवा शेयर करें

यह भी पढ़े:-

  1. बुध ग्रह को स्ट्रांग करने के उपाय
  2. राहु के लक्षण और उपाय
  3. गुरु बृहस्पति को प्रसन्न करने के उपाय
  4. वशीकरण मंत्र
  5. शनि को तुरंत खुश करने के उपाय

4 thoughts on “10 शुक्र ग्रह को मजबूत करने के उपाय लाल किताब”

Leave a Comment