शनि मंत्र दोष दूरीकरण एवं उपाय लाल किताब

Tantra Mantra

शनि मंत्र दोष दूरीकरण एवं उपाय लाल किताब

निम्न लिखित शनि मंत्र बहुत प्रभावशाली है। Tantramantra.in एक विचित्र वेबसाइट है जो की आपके लिए प्राचीन तंत्र मंत्र सिद्धियाँ टोन टोटके पुरे विधि विधान के साथ लाती है. TantraMantra.in कहता है सभी तांत्रिक मित्रों को इन कार्यविधियों को गुरु के मध्य नज़र ही करना चाहिये। तथा इन इलमो को केवल अच्छे कार्य में ही इस्तेमाल करना चाहिए, अन्यथा आपको इसके बुरे परिणाम का सामना खुद ही करना होगा ।

कुदरती टोटके जो मनुष्य पढ़कर खुद करेगा उसी का कार्य पूर्ण होगा और जो दूसरे को पढ़कर बतायेगा जिसको बतायेगा उसका कार्य नहीं होगा, जो पढ़ेगा और बिना किसी व्यक्ति को बताये करेगा उसी का कार्य सम्पूर्ण होगा।

निम्नलिखित तंत्र मंत्र प्राचीन तंत्र मंत्र साहित्यो से लिए गए हैं! जैसे इंद्रजाल, लाल किताब, शाबर मंत्र संग्रह इत्यादि|

जरुरी सूचना

कुदरती टोटके जो मनुष्य पढ़कर खुद करेगा उसी का कार्य पूर्ण होगा और जो दूसरे को पढ़कर बतायेगा जिसको बतायेगा उसका कार्य नहीं होगा, जो पढ़ेगा और बिना किसी व्यक्ति को बताये करेगा उसी का कार्य सम्पूर्ण होगा।

शनि मंत्र (ग्रह)

मंत्र

शनि ब्रह्मयामि कोलिकाकरम्‌
शुभ्रमणियम्‌ करिश्यान्ति करिश्यान्ति
शनिचर आदि कालम्‌ वस्त्रादि फिरूसितम्‌
काल वस्त्रादि धारूणी
काल चक्र चारूणी चारूणी ,
फलम्‌ फलम्‌ यथा सितम्‌
ब्रह्म नेमिसागरम्‌ उत्त्पत्ति करिष्यति,
शनि चारमामी पाष्यन्ति, करूणाबिन्दम्‌ जामोंसितम्‌
जगत निग्रह जाग्रति जाग्रति
शणि आषणीयम्‌ भाग्वन्ति भारग्वन्ति
सैहस्त्रबाहु किरोश्यान्ति
भज जगत नारायणी भास्यन्ति,
जयहिनियमिन पास्यन्ति पास्यन्ति
इति सिद्धम

 शनिदेव मंत्र

मंत्र

शनि ब्रह्ययामि : याज्ञुरितम : प्रवाहजियम :
वास्तुवियम : संसारम: व्याज्ञयरितम : महाभावन :
याज्ञुरितम : आस्थानि युगम : परिजयन्तिम : संसारम:
शनि: भज : जगत्‌ पृथ्वी लोकयात्यानि शिखिकायनि
शनि यातुक्तरिजम : परिभा जगतम:
महापुन्यम: पृथ्वी लोकम : मनुष्यम : भ्रमाणिजय :
सहशक्तियम : संसारम :
इति सिद्धम्‌

शनि ग्रह दोष के लिए

निवारण – शनि ग्रह के दोष को दूर करने के लिए अगर  मनुष्य तेली के घर बैल को रोटी में तेल गुड़ लगा कर सवा महीना जिमा ता है और  सेवा करता है तो  शनि ग्रह का दोष समाप्त हो जायेगा।

अथवा

निवारण – सवा महीने तक पीपल पर जड़ों में पीले कपड़े में बाँधों फिर काले कपड़े में बाँधों सवा किलो सरसों का तेल, तेल में सवा सौ ग्राम काले तिल और गुड़ 200 ग्राम किसी डिब्बे में बाँध दो और उसमें छोटा छेद कर दो फिर उसे पीले कपड़े में बाँधो फिर काले कपड़े में बाँधो और बाँध कर पीपल पर ऊपर जाकर बाँधो जिसमें उस डिब्बे में से तेल की बून्द पीपल पर गिरती रहे यह विधि करने से साढ़े साति शनि दोष नहीं होता है  और सवा महीने तक हर शनिवार को पीपल की जड़ों में तेल का दीपक जलाओ और तिल अर्पित करो 

कुछ खास जानकारियाँ

जब राहु-केतु मिलकर शनि की हालत खराब करते हैं, तो शुक्र को बलि का बकरा बनना पड़ता है। जब शनि को सूर्य का टकराव खराब करे तो शनि की जगह शुक्र की कुर्बानी दी जाती है। इसलिए शुक्र का अच्छी दशा में होना बहुत जरूरी है, वरना शनि-सूर्य  के झगड़े में जातक की पत्नी पर बहुत बुरा असर पड़ेगा। वह बीमार हो सकती है। इस हालत में न ही सूर्य बर्बाद होगा और न ही शनि क्योकि ये बाप-बेटे हैं, लेकिन इसका असर शुक्र पर जरूर पड़ेगा।

शनि की दृष्टि नरम होने हेतु उपाए

शनि की दृष्टि ठीक और नरम करने के लिए शनि के दिन तेल का दिया जलाकर अपने ऊपर से  उतार कर पीपल की जड़ों में रखकर तिल को अर्पित करो धियान रहे की  तिल काले  होने चाहिए , इस विधि को सात शनिवार करना है और सात शनिवार करने के बाद सवा मीटर काला वस्त्र काले उड़द की दाल तेल किसी भी जवान बालक को दान करनी चाइए इस विधि के करने से शनि की दृष्टि नरम हो जायेगी।

अगर आपको शनि मंत्र दोष दूरीकरण एवं उपाय लाल किताब के उपाय पसंद आई हो तो कृपया निचे कमेंट करें अथवा शेयर करें

यह भी पढ़े:-

  1. मंगल ग्रह का प्रभाव और उपाय
  2. केतु के उपाय लाल किताब
  3. 10 उपाय | शनि को तुरंत खुश करने के उपाय |
  4. लाल किताब व्यापार में उन्नति के उपाय
  5. वशीकरण मंत्र 1 शब्द का

Leave a Comment