रुद्राक्ष को शुद्ध कैसे करें | रुद्राक्ष धारण करने की विधि

Tantra Mantra

रुद्राक्ष को शुद्ध कैसे करें | रुद्राक्ष धारण करने की विधि

निम्न लिखित रुद्राक्ष को शुद्ध कैसे करें | रुद्राक्ष धारण करने की विधि मंत्र बहुत प्रभावशाली है। Tantramantra.in एक विचित्र वेबसाइट है जो की आपके लिए प्राचीन तंत्र मंत्र सिद्धियाँ टोन टोटके पुरे विधि विधान के साथ लाती है. TantraMantra.in कहता है सभी तांत्रिक मित्रों को इन कार्यविधियों को गुरु के मध्य नज़र ही करना चाहिये। तथा इन इलमो को केवल अच्छे कार्य में ही इस्तेमाल करना चाहिए, अन्यथा आपको इसके बुरे परिणाम का सामना खुद ही करना होगा ।

कुदरती टोटके जो मनुष्य पढ़कर खुद करेगा उसी का कार्य पूर्ण होगा और जो दूसरे को पढ़कर बतायेगा जिसको बतायेगा उसका कार्य नहीं होगा, जो पढ़ेगा और बिना किसी व्यक्ति को बताये करेगा उसी का कार्य सम्पूर्ण होगा।

निम्नलिखित तंत्र मंत्र प्राचीन तंत्र मंत्र साहित्यो से लिए गए हैं! जैसे इंद्रजाल, लाल किताब, शाबर मंत्र संग्रह इत्यादि|

रुद्राक्ष को शुद्ध कैसे करें | रुद्राक्ष धारण करने की विधि

ॐ रोहणी रुद्राक्षी मनकरिन्द्री नम :
रुद्राक्षीयायाम्‌ गंड संसारम्‌ पारवितम्‌
फूल माला जडयायामी जयमीस्यामी
जमीस्यामी प्रलानी प्रलानी नम:
रुद्राक्षी बुटी सफलम्‌ करीयामी
मूर मूरगामी यशस्वी स्व:
ज्या वूटी मोरी वाणी बुंटी
दामिनी दामिमि स्व:
रमणी रमणी नम: नम:
इति सिद्धम्‌

गुर मंत्र 

गुरु मा्कितिम विभागमन प्रस्तुतिवियम्‌ नियमानुसरणम्‌
गुरु आदेश आदेश आदेश अलखा हाजण संसारम्‌
अलख निरंजन आदेश आदेश आदेश।
इति सिद्धम्‌

गुरु पाद पदम्‌

गुरुवा पादम निरिक्षयायाम्‌
धैर्यें: अस्ती पदम धारणीम
गुरुवाणी गुरुवाणी गुरु मुखम बोलिये
गुरु सत्य नम: सत्य नम:
गुरुम्‌ पादम्‌ नमस्तेते नमस्तेते
गुरुम मुखम्‌ बोलिए
गुरु वाणी गुरुवाणी
मुखारबिन्दम जानिये।
प्रथमा: गुरुनानक देव देवाय
नम: मानिये।
भीतरी वामी यशस्वी नमो नारायणी
भुजगेन्द्र हारम्‌ यतीन्द्र नमस्तेते :
गंगा जमना सरस्वती यथातिथि
ब्रह्म नारायणी जगत उत्त्पत्ति।

जय सरस्वती मन्त्र

जय सरस्वती नम :
जगत धारिणी , मनौ: मनौ: बस्यन्ति,
नर नारि: धारिणी, मन विचारिणी :
युगे युगे कर्मणे,
किरोश्यान्ति मन भस्मी धारिणी,
कारिणी, पार्वति रूपान्त्रित
नर नारी मन्‌ भस्मी किरोयामी सरस्वते नम:
संसार मनन भेदिनी , नर नारी,
मनन्‌ भेदिनी: सरस्वते : नम:
फलत: फलत : कार्यवन्ति,
निर्जीव वस्तुम फलामी फलामी,
मनन इति सिद्धिम: फलम: फलम: सरस्वते नम :
इति सिद्धम्‌

धरती माता का मन्त्र

धरती मात्रयामि यामि ग्रायत्रि फिरयामि
यथा, यथा, भूमे भुमेणीम संसार व्यापन,गर्भ धारिणी
संसार भारम ओढेयामि प्रकृति मात्र काकुलि मिरयामि , मिरयामि
भारयन्ति भारयन्ति श्यामला वस्त्रादि धारिणी पिताम्बर ओढेयामि
धरती माता धारिणी , उत्तपत्ति संहार करियन्ति
धर्म धर्मकी जय, जय माँ जय
इति सिद्धम्‌

आसन पर बैठना

आसन प्राणवियम आत्मा मिखार बिन्दम्‌
भुवनेश्वर प्रतिज्ञयम्‌ आसन मनौनितम
पिजेर्णियम्‌ प्रभु आगमन
जय महात्रिगुणम्‌ प्रमात्मम्‌

श्री गंगा माता आसन पर बैठने के लिए मन्त्र

जल मग्न माँ गंगे
धुरन्दर रास्ता दूर करो माँ माँ गंगे
कल्प तरु धरती तरू
उत्तरी माँ गंगे
शिव रूपिणी जगत धारिणी माँ गंगे
संसार को मुक्ति दिलाने वाली माँ गंगे
माँ गंगे आओ आओ
अपना दिया हुआ वचन पूरा करो माँ गंगे
जय , जय जय, माँ गंगे

श्री आसन बांधना

ॐ जय रघुनन्दन आसन पधारम
ब्रह्म विष्णु शिवम्‌ जगत धारणम :
सूर्य अग्नि पृथ्वी आकाश
‘जलम्‌ प्रकारम्‌
संसारम्‌ उध्धारणम : धर्म पारम
संसारम्‌ नर प्राणी जग धारणम :
कवच धारणीम भग वस्त्रा *
धारण अग्नि प्रविष्ष्श्यति
भूव: भूव: स्व: यतीन्द्र देवा
सम्भणी वाणी प्रयाग्या
विश्वामित्रा शिष्यम्‌
संसारम्‌ अवतारम धर्म पारम:
आगच्छन्ति आगच्छन्ति
कवच मणी उत्तीर्णम्‌
पधारम्‌ घरती धारण
युग पुरुष गावत प्रति संख्यम्‌ युग युगान्तरम्‌
आसन त्रिशुलम उत्तारणामो शीघ्रतम
नमो नमो : नम:
इति सिद्धम्‌

आसन बांधना

ॐ विष्णु भुततनात्वि चतुर्थ भुजा वाशिणी
दशम दिशा प्रणति पुज्य प्रति क्षणम संसारम
कलाक्षी कलयुगे भव: सागरम संसारम्‌
भवान्ति कलयुगे उच्चारणम्‌
त्रिलोकम तारागणम पुष्पागण संसारम्‌
काल भैरव प्रताक्तिवियम्‌ विमण पृथ्वी विक्याणम्‌
विकाल भैरव जन्म मृत्यु विज्यारणम्‌ पृथ्वी मापण संसारम
अधिपति विधायकम्‌
ॐ  जागपरियाणी , यान्त्रणी , ब्रह्मा विष्णु शिवम यान्त्रणी
भ्रगोयामी भूर्व : भूव : स्व: भज जगत नारायणी नारायणी
अवतरित भारत भूमेणी भूमेणी।
इति सिद्धम्‌

समाधि अवस्था ध्यान अवस्था

लक्ष्मण पक्ष धारिणीम्‌ राम नवम जगत धारिणीम्‌
शम्भु आदिनाथ प्रजायनि युगे युगे खकुंरी बाजत निश्चिन्ति 
ब्रह्मणी गावत नाचत खकुरी स्व्यमं आनन्दितम
कृष्णा अवतारम्‌ भज जगत नारायणी नारायणी
मध्य कालीन युग पुरुष गुरु गोरक्षनाथ गुरु को नमस्कार
सूक्ष्म रूप जगतधारि काल रूप असुर संहारि धरती गगन
पाताल तीनों लोक गावते प्रति संख्यक युगे युगे 
इति सिद्धम्‌

भूत प्रेत बुलवाने का मन्त्र

ॐ भूत रात्रि भुतिनि , डायन , आगच्छन्ति
मुखारियामिणी स्व: फट
बक: फट: इतरगामी फट बक फट्‌
बक फट्‌ चल हट्‌ बक फट्‌
इति सिद्धम्‌

शिव शंकर त्रिशूल बुलाने का मन्त्र

जय नारायणी जय नारायणी
भुजगेन्द्र नर भक्षयेणम
‘करियामि करियामि शिवम्‌
त्रिशूलम्‌ धरतीम्‌ उत्तारणमों
भेंजन नर भक्षणम्‌ पारवितम्‌
सज गमन दण्डम देदेयेतितम्‌
नर अधर्मी नर भक्षणम्‌
करियन्ति राक्षसे
मिश्यामि नाष्टम्‌ करियन्ति
जय संसारम्‌ सैहरियम्‌
धरती , भारम्‌ उतरयामि ,
समय समय पारम करियन्ति
भज भुजगेन्द्र शिवम्‌ त्रिशुलम्‌
तारेण देव देव
इति सिद्धम्‌

Leave a Comment