गर्भ ठहरने की विधि

Tantra Mantra

गर्भ ठहरने की विधि

निम्न लिखित गर्भ ठहरने की विधि का मंत्र बहुत प्रभावशाली है। Tantramantra.in एक विचित्र वेबसाइट है जो की आपके लिए प्राचीन तंत्र मंत्र सिद्धियाँ टोन टोटके पुरे विधि विधान के साथ लाती है. TantraMantra.in कहता है सभी तांत्रिक मित्रों को इन कार्यविधियों को गुरु के मध्य नज़र ही करना चाहिये। तथा इन इलमो को केवल अच्छे कार्य में ही इस्तेमाल करना चाहिए, अन्यथा आपको इसके बुरे परिणाम का सामना खुद ही करना होगा।

कुदरती टोटके जो मनुष्य पढ़कर खुद करेगा उसी का कार्य पूर्ण होगा और जो दूसरे को पढ़कर बतायेगा जिसको बतायेगा उसका कार्य नहीं होगा, जो पढ़ेगा और बिना किसी व्यक्ति को बताये करेगा उसी का कार्य सम्पूर्ण होगा।

निम्नलिखित तंत्र मंत्र प्राचीन तंत्र मंत्र साहित्यो से लिए गए हैं! जैसे इंद्रजाल, लाल किताब, शाबर मंत्र संग्रह इत्यादि|

गर्भाशय विकार (गर्भ ठहरने की विधि)

विधि – इस मंत्र का जाप करते हुए स्त्री का झाड़ा करें। लाल धागा लेकर सिर से पांव तक नापें और इस मंत्र को उच्चारित करते हुए उसके ऊपर 21 गांठ लगाए और स्त्री को धारण करवा दें 

मंत्र –
ॐ नमो कामरू कामाख्या देवी।
जल बांधूं । जलवाई बांधूं। बांध दूं जल के तीर।
पांचों दूत कलुवा बांधूं ।बांधूं हनुमन्त वीर ।
सहदेव की अनुवा ।अर्जुन का बाण।
रावण रण को थाम ले।
नहीं तो हनुमन्त की आनशब्द सांचा।
पिण्ड कांचा  फुरो मंत्र ईश्वरो वाचा 

( इस कार्य विधि से जीने गर्भ स्थित न होता हो उनका गर्भ स्थित हो जाता है )

अगर आपको गर्भ ठहरने की विधि का मंत्र पसंद आया हो तो कृपया निचे कमेंट करें अथवा शेयर करें

यह भी पढ़े:-

  1. पुरुषों में कमर दर्द
  2. रतौंधी के प्राथमिक उपचार
  3. कान दर्द का तुरंत इलाज
  4. नाम लिखकर वशीकरण
  5. नाक से पानी आना छींक आना घरेलू उपचार

5 thoughts on “गर्भ ठहरने की विधि”

Leave a Comment